The Big Bang of 08/11/2016 | Modi’s “Achhe din”

500-note

For the past two and half years, Narendra Modi led central government has been criticized of not being able to take any steadfast decision with regards to curb the ever growing fangs of corruption. Though the night of 08/11/2016 proved that not only the central government has a clear stand against corruption but also our PM has the guts of announcing, probably the biggest economic decision of its tenure, to the whole nation via a live television broadcast, something which is not very common in India.

The decision to ban the 500- and 1000- rupee notes will certainly effect the corrupt, though it is limited to the fact that its major effect can only be seen on the black money which is actually in cash. What about land? What about gold?  The question also arises why 500 and 1000 rupee note? The major portion of unaccounted money which is used for any illicit purpose generally is in form of high value notes. This move deeply impacts the working sections of society. Anybody who provides services in the informal sector and depends on monthly cash payments.The UPI (unified payment interface) system is likely to be fully operationalised only by January 2017. Would it have not been better to wait until then, if this move was to shift towards a cashless economy?

quazi

The beauty of the whole operation lies in its secrecy. Electorally, this single decision may have the power of confirming the 2018 lok sabha elections in BJP’s favour. The “Achhe din” motto, as popularized by BJP during its election campaign had great dependence on how the government tackles the OROP and black money issue. With the Punjab elections coming, this anti corruption event may have just slightly changed off the electoral balance in the state. The hoarding of cash at home—which in all likelihood will involve Rs500 and Rs1,000 notes—will have to put the money into the formal system. And terrorist organisations, which according to the government have made repeated use of fake currency, will suddenly find their cash piles containing these notes worth nothing but mere paper. The general public was seen accepting this decision with open arms.

ca-shivendra

Undoubtedly this is one of the bravest decision taken by the government against black money, though the crucial part being its implementation.

“Parasites”

In this very small life that we live, we meet many individuals. Out of all these people the “Parasites” is the sect which we all must be aware of. These are the “Positivity” sucking people or to define them better I would say that these individuals feast on your good thoughts and capabilities unless they convert that lush green field of positivity into a barren land full of negative thoughts.

The question which I had to face a lot was “How you identify a parasite?”. Well obviously, they don’t have any sort of horns on them. These parasites roam among the realms of common men, feasting and enjoying over people who are unaware of their wicked ideas. They look similar to us, yes they too are “Homo Sapiens” yet they are the incarnation of Satan himself.

All those people who don’t want you to be better or develop yourself are parasites.  They don’t want you to grow, because if you do, you will attain the ability to identify them and that will not be good for their survival. Such people want your capabilities to be restricted. If you are a batsmen they will do everything possible to make you the 12th man and will always stop you from being an all rounder.

These parasites come in various forms, friends, relatives, teachers are just some of their kind.

The most dangerous form of these parasites are friends. If you have a group of friends and even if one of them is a parasite, and you have not yet been able to identify him or her, he or she will be the reason for your downfall. 

That person will create such a surrounding for you that your total growth as individual will get restricted. So its always good that you properly scan an individual before letting him or her in your life. God forbid, but if your so called “true love” turns out to be a parasite.. Trust me buddy, you are doomed!!

It also sometimes happen that we ourselves start turning into a parasite. Yes, its true. It happens when Satan starts loving you because of your fragile thoughts. In such cases, its better to go to a doctor, here doctor being some trustworthy person who completely understands you. If the symptoms continue, its better to leave the social surroundings for the greater good of man kind.
Now what? Its over! This is all what I wanted to write.
No wait,
Start using slippers whenever you see a parasite. Bang them on their head. Kill them. If anyone is trying to restrict your growth or is causing any sort of chaos because of which you feel burdened and eventually think of quitting on your dream, I believe you have each and every right to throw such individuals out of your life!!!

Beware of Parasites!!

“जनरल का डिब्बा”

आज फिर रोज़ की तरह वह वही जनरल के डिब्बे में चड़ा, हाँ वही महिला बॉगी के बगल वाले में। कॉलेज जाने के लिए उसे यही साधन सस्ता परता था। माना की थोड़ी मेहनत करनी परती थी चड़ने के लिए लेकिन उसका यह परिश्रम हर रोज़ उसे, उसके रूप में एक मीठा फल भी देता था।

रोज़ उसे पूरे के पूरे ढेर घंटे मिलते थे लगातार उसे देखने को। बात करने की हिम्मत उसमे आज तक नहीं हुई थी, वह तो बस उसे देख मन ही मन मुसकुरा खुश रह  लेता था।

वह नीली वाली सलवार पर सफ़ेद वाली कुर्ती, आँखों पर वह चश्मा।
हाँ,ऐसी ही कुछ थी वो। ❤

दांतो के बिच एक पेंसिल दबाये, रोज़ किसी न किसी किताब में खोई रहती। “न जाने क्या पढ़ती है इतना” अकसर वह यही सोचा करता था। हमारे लौंडे के दिल की हड़कंप तो वो हवाएं बड़ा दिया करती थी जो उसकी आशिकी के चेहरे पर उसकी जुल्फों को बिखरा दिया करती।
हाये, कसम गंगा मैया की, लौंडे का बस चलता तो उसी वक्त उसे भगा ले जाता।

उस दिन न जाने क्यों वह अपने निर्धारित स्थान पर नहीं थी। महिला डिब्बा उस दिन कच्चा कच भरी हुई थी। परेशान हो चूका था हमारा लौंडा। आज वह कॉलेज नहीं जा रही क्या? कहीं उसकी तबीयत तो ख़राब नहीं? कैसे कटेंगे यह ढेर घंटे?

वह इन सब ख्यालों में डूबा हुआ उसे उस जनरल की भीड़ में ढूंढने की कोसिस कर ही रहा था की अचानक से पीछे से एक जानी पहचानी हुई आवाज़ ने उसके साधना को भांग किया

“किसे ढूंढ रहा है? आज वह घर से ही चली गयी। हाहाहा, तू यहाँ धक्के खता रह”
लौंडे के मित्र ने कहा।

“मैं? नहीं भाई, किसी को नहीं ढूंढ रहा, मैं क्यों भला ढूंढो किसी को? ऐसा कुछ नहीं है”

सच तो केवल वह जनरल का डिब्बा ही जानता था ❤

“मेरे लिए blogging…

हमारे college में एक company आती है students को soft skills कि training देने, उस company के trainer कि माने तो इंसान blogging करता है ताकी पैसे कमा सके। यहाँ भी लोगों को चैन नहीं। कितना हीन हो गया इंसान, हर जगह केवल और केवल रुपए और तरक्की कि बांते। कुछ चिंजे इन बातों से पड़े होती हैं। कुछ चिंजे आपके वास्तविकता की परिभाषा होती है, मेरे लिए “लेखनी” वही दर्जा रखती है।

“वो बूझी हुई सिगरेट…

सालों बाद आज वो घर को आया था। इन MNC’s का चककर ही ऐसा होता है। और विदेश की लालसा भी अलग ही होती है। कुछ चिजें कभी नहीं बदलती। उनका अस्तित्व और उनकी खूबसूरती दोनों ही उनके न बदलने में है।

अब जैसे की उसका वो मुहल्ला। Globalization की कोई छाप नहीं पड़ी थी वहाँ। सब कुछ ज्यों का त्यों। Sharma आंटी को आज भी लौंडे “Hippo” केह कर चिड़ा रहे थे। Das अंकल आज भी अपनी वही पुरानी Fiat को जान लगा कर चमका रहे। पुरानी पुलिया पर लौंडे आज भी चिलम पि रहे थे। न जाने उन्हें “Malboro” और “Gold Flake” के अस्तित्व का पता भी था कि नहीं।

कुछ भी नहीं बदला था उन 4 सालों में। या शायद कुछ बदल चुका था। बदल चुकी थी वो …

कैसी दिखती होगी अब? शादी हो गयी होगी क्या? कहीं मोटी तो नहीं हो गई होगी? न जाने अपने बालों को कैसा करवा लिया होगा। मुझे पहचानेगी ?, न ही पहचाने तो बेहतर। अभी भी चश्मा लगाती होगी? न जाने कैसी होगी ।

इन खयालों में डुबा, उसने नूकड़ कि दुकान से एक सिगरेट ली, और “काके की दुकान” के तरफ बड़ गया।  चाहे कुछ भी बदल जाए एक इंसान कि जिंदगी में, लत कभी नहीं बदलती। उसे भी लत लग चूकी थी, एक सिगरेट और दूसरी उसकी। फर्क बस इतना था कि एक उसे छोड़ती नहीं और दूसरी उसे मिलती नहीं।

वो काके के यहाँ पहुँचा ही था कि मानो समय अचानक रुक सा गया हो । सामने उसके वो थी।
आज भी उसकी बोली में वही एक अनकही सी मिठी रौब थी। चश्मे आज भी वही काले रंग के Full Frame। बाल उसके आज भी वैसे ही पुरे Straightened । हाँ, ईश्वर ने पुरा Summer Vacation खर्च कर उसे बनाया था और बनाने के बाद उस सांचे को तोड़ दिया था।

….अचानक से उसकी नज़र, दुकान के बाहर खड़े एक लड़के पर पड़ी। ये… क्या मैं कोई सपना देख रही? क्या ये वहीं है? उंगलियों में दबी एक सिगरेट, Casual से Trousers और एक Formal सी T-shirt। लग तो वही रहा। शरीर का तो कोई खयाल ही नहीं है। कितना दुबला हो गया है। पता नहीं खाना भी ढंग से खाता की नहीं।

“कैसी हो?”
“तुमसे मतलब? अपनी तबीयत देखो,Scarecrow  से लग रहे हो!”
“Oh… शादी कर लि क्या ?”
“सिगरेट पिना छोड़ दिया क्या?”
“ये लो बुझा देता हूँ.. अब बताओ  शादी कर ली?”
“ये सवाल पुछने का तुम्हें कोई हक नहीं”
“है..”
“नहीं, नहीं हुई है शादी…”

और तभी न जाने कहाँ से कोई China Mobile बज पड़ा,

“तेरे बिन जिंदगी से कोई शिकवा तो नहीं, शिकवा नहीं,
तेरे बिना, जिंदगी भी लेकिन जिंदगी तो नहीं…..”  ❤  ❤